वीरेन्द्र सहवाग के बारे में जुड़े रोचक तथ्य, Virender Sehwag in Hindi

Interesting matter about Virender Sehwag in hindi

2002 में क्रिकेट जगत में एक नया सितारा उभर कर आया जिसने सभी का ध्यान अपनी और केन्द्रित कर लिया। उसका नाम है वीरेन्द्र सहवाग। Virender Sehwag भारत की क्रिकेट की टीम के भूतपूर्व क्रिकेटर है। भले ही ये आज टीम का हिस्सा नही है। लेकिन जब व भारतीय टीम में मैच खेलते थे, तो उनका बल्ला टीम इंडिया के स्कोर बोर्ड को जीत की और ले जाया करता था। इनको विश्व क्रिकेट का सबसे विस्फोटक और ख़तरनाक बल्लेबाज माना गया है। वीरेंद्र सहवाग भारतीय क्रिकेट टीम के बहुत ही अच्छे खिलाड़ी रहे हैं। ये मैदान में अपनी बल्लेबाजी के दम पर मैच की दशा और दिशा दोनों बदलने में काफी माहिर थे।  वीरेंद्र सहवाग काफी निडर और आक्रमक बल्लेबाज थे।  इनको नजफगढ़ का नवाब और भारतीय क्रिकेट टीम का सबसे सफल बल्लेबाज कहा गया है। यह दाहिने हाथ से बल्लेबाजी करते थे, राइट आर्म के ऑफ स्पिन गेंदबाज थे।  इन्होंने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय एक दिवसीय मैच 1999 में मैच खेला था, और सन 2001 में अपना पहला टेस्ट क्रिकेट मैच खेला था। अंतरराष्ट्रीय एक दिवस मैच के लिए इनको 2009 में विजडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्ड से सम्मानित किया गया था। भारत में इस तरह के आवार्ड से पुरस्कृत ये एकमात्र बल्लेबाज है। इसके आलावा इन्होने क्रिकेट में काफी रिकॉर्ड अपने नाम किये है।

Virender Sehwag

Virender Sehwag

Virender Sehwag का जन्म 20 अक्टूबर 1978 को दिल्ली में हुआ था। इनके पिताजी अनाज के व्यापारी थे। जो दिल्ली में रहते थे। इनका संयुक्त परिवार था, और इनका परिवार हरियाणा में रहता था और बाद  में दिल्ली रहने के लिए चले गए। इनके पिता का नाम किशन  व माता का नाम करुणा था। इनके पिता ने इनकी क्रिकेट के प्रति रुचि को बहुत जल्द इनके बचपन में ही समझ लिया था। और इनके लिए मात्र 7 महीने की उम्र में खिलौने वाली बैट लाकर दी थी। इनके क्रिकेट करियर के शुरुआती कोच अमरनाथ शर्मा थे। एक बार 1990 में क्रिकेट खेलते समय वीरेंद्र सहवाग का दांत टूट गया था, तभी उनके पिता ने उनको क्रिकेट खेलने के लिए मना कर दिया था। लेकिन अपनी  ने अपनी माताजी की सहायता लेकर दुबारा से अपने क्रिकेट करियर को चुना। इनकी शादी 2004 में आरती अहलावत से हुई।

Virender Sehwag

Virender Sehwag से जुड़ी कुछ खास एवम रोचक बातें:-  

  1. वीरेंद्र सहवाग कभी वेट नहीं करते हुए मौका मिलते ही आक्रामक बल्लेबाजी करते थे।
  2. इनका शुरुआती करियर फार्मेसी व्यापार था, लेकिन बाद में उन्होंने अपने करियर के लिए क्रिकेट को चुना।
  3. वीरेंदर सहवाग से एक पत्रकार ने पूछा कि जब वह क्रिकेट से संन्यास लेंगे तो क्या पसन्द करेंगे- तभी उन्होंने कहा- ”मैं या तो क्रिकेट कोच बनना पसन्द करूंगा, या फिर स्नूकर खेलूँगा।”
  4. वीरेंद्र सहवाग को अपनी मां के हाथ से बनी खीर सबसे ज्यादा पसंद थी, और  खीर उनका सबसे प्रिय भोजन था।
  5. वीरेंद्र सहवाग को नजफगढ़ का सुल्तान कहा जाता था।
  6. महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर वीरेंद्र सहवाग को अपना आइडियल मानते थे वह उन्हें बहुत ज्यादा सम्मान भी देते थे।
  7. वीरेंद्र सहवाग ने 20 अक्टूबर को अपने जन्म दिवस के मौके पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट और आईपीएल से सन्यास लेने की घोषणा कर दी थी।
  8. सहवाग का पूरा नाम वीरेन्द्र किशन सहवाग है, इनको प्यार से ‘वीरू’ भी कहा जाता है
  9. कोच इयान चैपल दुनिया का सबसे जबरदस्त और आकर्मक बल्लेबाज बता चुके हैं.
  10. सचिन तेंदुलकर या सौरभ गांगुली के साथ क्रिकेट खेलना सहवाग के लिए सपने जैसा था। जब वह प्रथम श्रेणी के क्रिकेट मैच में खेलने आये उन्होंने कहा ”मुझे लगा कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ । मुझे इस बात की चिंता नहीं थी कि मुझे कामयाबी मिलेगी या नहीं, मुझे इस बात की चिंता अधिक थी कि इन सीनियर क्रिकेटरों को किस तरह से सम्बोधित करूंगा ‘सर या भैया ?’ अन्त में सहवाग ने दिल से सभी को भैया बुलाया।
  11. Virender Sehwag चेन्नई में साल 2008 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी बनाने वाले बल्लेबाज बन गए थे
  12. सन 2009 में इनका एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय (ओडीआई) मैच में सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड, चार साल बाद विराट कोहली ने तोड़ा था
  13. सन 2005 में उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ खेले गए मैच में ओवर की छह गेंदों पर 4,4,6,4,4,4 रन बनाये थे, इस ओवर के लिए वीरेंदर सहवाग को भुला नहीं जा सकता
  14.  Virender Sehwag के खाते में 17,000 से भी अधिक अंतरराष्ट्रीय रन मौजूद  हैं.
  15. वीरेन्द्र सहवाग टी.वी. पर फिल्म देखने के शौकीन है, और फिर लता मंगेशकर, मोहम्मद रफी के गाने सुनने में समय बिताता है।
  16. अपने दोस्तों के लिए सहवाग आज भी वही है जो बचपन में थे, और आत्मविश्वास से कहते है की मैं तो किशोर कुमार के गाने सुन-सुनकर ही बड़ा हुआ हूँ । मेरे लिए तो आज ‘भी सबसे मशहूर गाना ‘जीवन के सफर में राही मिलते हैं बिछड़ जाने को’ है।
  17. यदि व्यक्ति ऊंचाइयों को छूने का साहस करे तो अपने प्रयत्नों से वहां अवश्य पहुंच सकता है। यह वीरेन्द्र सहवाग ने साबित कर दिया है।

Tagline- Virender Sehwag in Hindi, Virender Sehwag Biography, Virender Sehwag Records.

सचिन तेंदुलकर से जुड़े रोचक तथ्य, Sachin Tendulkar In Hindi

Author: Karamvir

Hello friend my self is Karamvir from, Madlauda, District Panipat, Haryana, (India) i will provide you information about latest technology, general knowledge and much more. I hope you will be satisfied with me. For more info you can email me on this address: fmsmld765@gmail.com

79 thoughts on “वीरेन्द्र सहवाग के बारे में जुड़े रोचक तथ्य, Virender Sehwag in Hindi”

  1. I do consider all the ideas you’ve presented on your post. They’re really convincing and can certainly work. Still, the posts are very brief for novices. May just you please extend them a little from next time? Thanks for the post. cfkgfgdfccfbfcfd

  2. Wow, fantastic blog layout! How long have you been blogging for? you made blogging look easy. The overall look of your web site is wonderful, let alone the content! deefdeddkgde

  3. I just like the helpful information you provide on your articles. I will bookmark your blog and test once more here frequently. I’m moderately certain I will learn many new stuff right here! Best of luck for the next! eedkeecddekabdbd

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *