Hawa mahal facts, हवा महल से जुड़ी दिलचस्प बातें

Interesting about Hawa mahal facts, हवा महल से जुड़ी दिलचस्प बातें

Hawa mahal facts, भारत विविधताओं  का देश है।  यहां पर अजूबों की कोई कमी नहीं है। राजस्थान के कोने-कोने में आपको हर प्रकार के संग्रहालय,  अजूबे और पर्यटकों के लिए दर्शनीय स्थल मिल जाएंगे।  इन अजूबों में एक हवा महल भी एक अनोखा और देखने योग्य स्थान है। जोकि भारत के जयपुर में स्थित एक आलीशान महल है। इस महल के निर्माण में  लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर का इस्तेमाल किया गया है।  इसकी महल की दीवारें सिटी पैलेस से लेकर महिलाओं के कक्ष तक जुड़ी हुई है। इसे राजस्थान का राजसी महल भी कहा जाता है। इसको  महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने 1798 में बनवाया था। इसका आकार राजमुकट की तरह बनाया गया है। यह लाल चंद उस्ता द्वारा डिजाइन किया गया था। इस हवा महल में बहुत सी दिलचस्प बातें हैं। अभी आप सोचेंगे हवा महल में ऐसा क्या है यह बहुत सारे वैज्ञानिकों और लोगों के लिए एक रहस्य की बात बनी हुई है। यह महल भगवान कृष्ण और उनकी पत्नी राधा को समर्पित है।आज तक कोई भी इसके बारे में स्पष्ट नहीं कर पाया है। जानिए ऐसा क्या खास है इस राजमहल में इस हवामहल में हवा के नाम से छुपा हुआ एक मतलब है हवामहल का मतलब है एक ऐसी जगह जो हवाओं से भरी हुई हो यह एक अनोखी जगह है जो पूरी तरह से हवादार और ठंडी है।

Hawa mahal facts

Hawa mahal facts, Hawa mahal facts

हवा महल से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें-

  1. हवा महल की इस पांच मंजिला इमारत को बड़े ही अनोखे ढंग से बनाया गया है इसकी विशेषताओं सबसे अलग है।
  2. यह महल ऊपर से तो मात्र डेढ़ फुट चौड़ी है बाहर से अगर इसको हम देखते हैं तो यह है एक मधुमक्खी के छत्ते जैसा दिखाई देता है।
  3. इसकी एक अनोखी बात है इसके अंदर छोटी-छोटी 953 खिड़कियाँ  हैं।
  4. इन खिडकियों से लगातार ताजी और ठंडी हवा आती रहती है यही कारण है कि जिससे यह जंग है बिल्कुल ठंडी है।
  5. हवा महल को देख कर मन में यह सवाल जरूर आता है, की हवा महल को बनाने के पीछे क्या कारण रहा होगा आइए आपको बता देते हैं। इसके पीछे क्या कारण था राजपूत की रानियां और राजकुमारियां इन झरोखों वहां बैठकर विशेष मौकों पर होने वाले जलसों एवं झांकियां को देखा करती थी। क्योंकि राजपूत के समय में किसी भी इस्त्री को घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं थी।
  6. यह ईमारत अपने आप में एक अजूबा है। यह दुनिया की सबसे बड़ी बिना नींव की इमारत है।
  7. हवामहल 87 डिग्री कोण पर पर बना हुआ है।
  8. हवामहल  को 5 मंजिला बनाया गया है जो कि काफी आश्चर्यजनक है।
  9. हवामहल को राजपूत और मुगलों का बेजोड़ नमूना भी कहा गया है हवामहल अपने समय की संस्कृति और डिजाइन के कारण फेमस है।
  10. इस महल का गुबंद,  छत,  कमल और फूल राजपूतों का नमूना है। वही आपको बारीक नक्शों में डिजाइन में आपको मुगलों का भी तजुर्बा मिल जाएगा।
  11. इसमें सभी डिजाइन मधुमक्खियों के छत्ते की तरह से हैं।
  12. हवा महल को एक दुसरे नाम “पैलेस ऑफ़ विंड्स” के से भी जाना गया है।
  13. जयपुर शहर के शाही लोग अक्सर गर्मियों में आराम करने के लिए ईस महल में आते रहते है।
  14. इस महल की मुर्रामत पुरे 50 साल बाद सन 2006 में हुई,  आज के समय में इस महल का मूल्य लगभग 4568 मिलियन रुपये है।
  15. हवा महाल में ऊपरी मंजिल में जाने के लिए कोई सीढ़ीया नहीं है। ऊपर जाने के लिया एक ढालू रास्ता है।
  16. चाहे कितनी भी गर्मी पड़े लेकिन हवामहल में अंदर बैठने पर बहुत ठंड महसूस होती है जैसे किसी एयर कंडीशनर कमरे में होती है।
  17. हवामहल को काल्पनिक वास्तुकला का नमूना भी कहते हैं
  18. जयपुर हवामहल गुलाबी नगर, जयपुर में पयर्टकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है।
  19. यह चौराहे के मुख्य रोड पर स्थित है जयपुर में आप किसी भी यात्रा के द्वारा पहुंच सकते है, चाहे वह रोड हो, रेलवे हो या हवाई मार्ग हो। जयपुर रेलवे स्टेशन भारतीय रेलवे बोर्ड का केंद्रीय मुख्य स्टेशन है जयपुर में अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट है जो लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है इसके द्वारा भी वहां पहुंचा जा सकता

Tagline- Hawa mahal facts, Features of hawa mahal, Hawa mahal in hindi, Hawa mahal timings

ताज महल का इतिहास-Taj Mahal In Hindi

Author: Karamvir

Hello friend my self is Karamvir from, Madlauda, District Panipat, Haryana, (India) i will provide you information about latest technology, general knowledge and much more. I hope you will be satisfied with me. For more info you can email me on this address: fmsmld765@gmail.com

2 thoughts on “Hawa mahal facts, हवा महल से जुड़ी दिलचस्प बातें”

  1. इसके अंदर छोटी-छोटी 953 लड़कियां हैं। you mistake please chack the mistake good

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *